लापरवाही:_2 घंटे में जिगर के टुकड़े को छोड़ गई बेबस माँ

लापरवाही:_2 घंटे में जिगर के टुकड़े को छोड़ गई बेबस माँ

बड़ागांव धसान (चरण सिंह बुंदेला की खास रिपोर्ट टीकमगढ़) समीप ग्राम पंचायत हैदरपुर मैं आदिवासी महिला की डिलीवरी उपरांत मौत ।जननी एक्सप्रेस एवं आशा कार्यकर्ता की लापरवाही के चलते हुई मौत।
आदिवासी महिला के परिजनों ने लगाया आरोप कि मेरी बच्ची पेट में दर्द सुबह 4: 00 बजे होने लगा था तब ही हम लोगों ने जननी एक्सप्रेस के लिए आशा कार्यकर्ता को फोन लगा कर सूचित किया था लेकिन बहन का कोई व्यवस्था ना होने के कारण एवं जननी एक्सप्रेस नहीं पहुंचने के कारण मेरी बच्ची के यहां डिलीवरी सुबह 5: 00 बजे ही घर पर हो गई उसके उपरांत मेरी बच्ची हरिभाई आदिवासी उम्र 22 वर्ष की पहली डिलीवरी थी डिलीवरी घर पर होने के पश्चात सुबह 7: 00 बजे के करीब हरि भाई की तबीयत बिगड़ना शुरू हो गई तो तत्काल प्राइवेट टैक्सी कार सामुदायिक केंद्र बड़ागांव लाए जहां पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया
एवं नवजात बच्ची स्वस्थ है उसकी मां उसको जन्म देने के 2 घंटे बाद उसकी मौत हो गई इसकी जिम्मेदार समय पर गाड़ी ना पहुंचना जननी एक्सप्रेस है अब चाहे गलती आशा कार्यकर्ता की हो या गाड़ी वाले की एक महिला ने तो अपनी जान गवा दी।…… सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मैं जब यह महिला हरिबाई आदिवासी हैदर पुर से बड़ा गांव सुबह 9: 00 बजे आए तब उसको मैंने चेकअप किया तो वह है मृत अवस्था में थी एवं उसकी नवजात बच्ची स्वास्थ्य थी…… डॉक्टर प्रशांत जैन बड़ा गांव

टीकमगढ़