मंत्री और उनके बेटे ने तैयार किया अस्पताल कोरोना मरीजों का फ्री में होगा इलाज

अच्छी खबर

   दमोह mp आपदा के बीच मंत्री और उनके बेटे ने पेश की नज़ीर- तैयार किया अपना अस्पताल फ्री इलाज के साथ महंगी जांचे भी होगी मुफ्त – तीमारदार कर सकेंगे सी सी टी वी के जरिये निगरानी

पूरा देश इन दिनों कोरोना महामारी के दौर दे गुज़र रहा है तो लोग परेशान है इस बीच कुछ खबरें राहत देती हैं तो कुछ लोगों के काम नज़ीर भी बन जाते हैं एक ऐसी ही खबर आपको बताने जा रहे है जिसमे मुख्य किरदार में एम पी के पी डब्ल्यू डी मंत्री गोपाल भार्गव और उनके बेटे अभिषेक है तो नज़ीर बनी है इन पिता पुत्र की एक पहल और कोशिश।
कोविड के कहर से देश जूझ रहा है तो कई राज्यो में आलम ये है कि मरीजों को अस्पताल और इलाज भी नसीब नही हो पा रहा है। जिन सरकारी अस्पतालों में मरीज पहुंच रहे हैं वहां मारामारी मची हुई है। कई तश्वीरें झकझोर रही है और रोते बिलखते लोगों का दर्द आम आदमी को हिला रहा है । ऐसे दौर में अलग अलग तरह से लोग मददगार बन कर भी सामने आ रहे हैं। तो ऐसे ही बड़े मददगार के रूप में एम पी के पी डब्ल्यू डी मिनिस्टर गोपाल भार्गव और उनके बेटे अभिषेक दीपू भार्गव भी सामने आए है। भार्गव ने अपने विधानसभा क्षेत्र रहली के गढ़ाकोटा में कोरोना पीड़ितों की तकलीफ का एहसास किया और जब उनके जिले के साथ आसपास के जिलों में भी अस्पताल खाली नही दिखे तो इस पिता पुत्र की जोड़ी ने चंद दिनों में ही गढ़ाकोटा में एक अस्पताल तैयार कर दिया। यहां के कंपनी बगीचे में बने बागवान वृद्धाश्रम को बागवान कोविड केयर सेंटर में तब्दील कर दिया गया है। पहले दौर में सत्तर बिस्तरों वाला ये अस्पताल सूबे के बड़े बड़े प्रायवेट अस्पतालों से कम नही हैं। बेहतर सुविधाओं के साथ यहाँ आने वाले मरीजों का सारा इलाज मुफ्त में हो।रहा है और अभी चालीस कोरोना मरीज यहां इलाज लरा रहे हैं। सब कुछ मुफ्त में हो रही सुविधाओ के साथ इसकी खुद देखरेख कर रहे मंत्री पुत्र अभिषेक का कहना है कि सी टी स्कैन जैसी जांच भी यहां फ्री की जा रही है दरसल इस बागवान अस्पताल की शुरुवात के पीछे की वजह मंत्री गोपाल भार्गव ने अपनी आंखों से देखी तकलीफ को बताया । मंत्री भार्गव के मुताबिक महामारी के इस दौर में उन्होंने परेशान होते मरीजों और उनके परिवारों को देखा और फिर उन्होंने अपने बेटे अभिषेक के साथ ये कदम उठाया। बीते एक हफ्ते से चल रहे इस अस्पताल को लेकर भार्गव का कहना है विपत्ति के समय ही इंसान की असली पहचान होती है और वो साफ कह रहे हैं कि अभी चुनाव में लंबा वक्त है लेकिन अपने आसपास लोगों की जान की हिफाजत कर पाने से बड़ा कोई काम नही है। एम पी सरकार को भी मंत्री गोपाल भार्गव ने छोटे छोटे कस्बाई इलाकों में ऐसे सेंटर खोलने की सलाह दी थी और सरकार ने उनके मश्वरे को माना है और अब प्रदेश भर में सरकार कोविड केयर सेंटर खोलने जा रही है वहीं मंत्री भार्गव प्रदेश के और जनप्रतिनिधियों से भी इसी तरह की अपील कर रहे हैं।

– कस्बाई इलाके में पूरी तरह से हाईटेक इस बागवान अस्पताल की खास बात ये है जो शायद प्रदेश के किसी बड़े अस्पताल में न हो कि यहां भर्ती मरीजों के।तीमारदारों को सब कुछ लाइव देखने को मिलेगा। मंत्री भार्गव बताते हैं कि अस्पताल के हर वार्ड में सी सी टी वी कैमरे लागये गए हैं और बाहर बड़ी स्क्रीन लगाई गई है ताकि लोग अपने मरीज के इलाज को बाहर रहक़र देख सकें।

–  आपदा के इस समय मे जब लोग अपनी जान ही हिफाजत के लिए जद्दोजहद कर रहे हैं तमाम तरह के हालातों के बीच लोग सरकारों पर टकटकी लगाये बैठें हैं ऐसे दौर में बागवान अस्पताल वाकई एक नजीर है जबकि ये कोशिश किसी महानगर में नही बल्कि एक कस्बे में कई गई है और ये काम जिम्मेदारों सक्षम लोगों को प्रेरणा भी देगी की वो भी कुछ ऐसा करें।

ताजा खबर बुन्देलखण्ड