शिक्षा के नाम पर ठगी

ऑनलाइन शिक्षा देने के नाम पर के नाम पर चल रहा ठगी का खेल पुलिस तक पहुंचा मामला।
जतारा( टीकमगढ़)
चिटफंड कंपनियों के ठग गिरोह ने अब लोगों को ठगने का नया तरीका खोज निकाला है।
और ऑनलाइन नौकरी देने के नाम पर दस हजार रुपये का ठगे जाने का मामला सामने आया है। लेकिन पुलिस ने ठगी करने वालों को पहले तो उठा लिया बाद में फरियादी के पैसा वापस करा कर मामले को रफा-दफा भी कर दिया है यह सब को बीते रोज जतारा थाने में नजारा देखने को मिला है। बताते चलें कि
नाम पर मध्य प्रदेश सरकार ने भी ऑनलाइन ठगी एवं चिटफंड कंपनियों पर शिकंजा कसने की निर्देश जारी कर दिए हैं जिसके बाद आप ऐसे मामले भी सामने आने लगे हैं और लोग भी गंभीरता से ऐसे मामलों को लेकर पुलिस थाने तक पहुंचने लगे और इसी क्रम में थाना जतारा के गांधी ग्राम निवासी अनीता पत्नी सुनील प्रजापति ने थाना जतारा पुलिस को एक आवेदन पत्र दिया था जिस में उल्लेख किया गया था कि रतिया प्राइवेट स्कूल में पढ़ाती थी तथा रोहित विश्वकर्मा पुत्र कमलेश विश्वकर्मा निवासी जतारा द्वारा बताया गया कि तुमको ऑनलाइन पढ़ाना पढ़ाना है जो संस्था दिल्ली से रजिस्टर्ड है। उसमें तुमको शिक्षा देने के लिए नौकरी मिलेगी और ऑनलाइन शिक्षा देना पड़ेगी जिसके लिए रोहित विश्वकर्मा जतारा मनीष सर निवासी व्यवहार एवं संजय श्रीवास्तव निवासी छतरपुर मिले और इनके द्वारा नौकरी का झांसा देकर दस हजार रुपये की ठगी की गई जब 3 साल हो गए ना तो नौकरी मिली पैसा वापस मिला जिसके बाद पीड़ित महिला अनीता प्रजापति ने अपने पति के साथ थाना जतारा पहुंची और मामले की शिकायत दर्ज कराई जैसे ही आवेदन पहुंचा तो पुलिस भी हरकत में आ गई और ठगी करने वाले गिरोह के तीन नाम दर्ज एवं दो अन्य सभी पांचों युवकों को पुलिस पकड़ कर थाने ले आई और काफी देर तक मध्यस्था चलती रही जिसके बाद ठगी करने वाले युवकों ने पीड़ित महिला के दस हजार रुपये वापस कर दीजिए उसके बाद पुलिस ने युवकों को थाने से रवाना कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *