मनरेगा का काम मशीनों से तमाशबीन जनपद पंचायत

मजदूरों की जगह जेसीबी मशीनों से हो रहा निर्माण कार्य
प्रशासन के दावों की खुली पोल
जतारा (टीकमगढ़)
ग्राम पंचायतों में मजदूरों को रोजगार देने के लिए भले ही बड़े-बड़े दावे किए जा रहे लेकिन सरकार के दावों की पोल ग्रामीण अंचलों में खुल रही है जहां पर मजदूरों की जगह निर्माण कार्यों में जेसीबी मशीनों का खुलेआम उपयोग हो रहा है।
जबकि मस्टररोल में मजदूरों की उपस्थिति दिखाई जा रही है।
और धरातल पर मजदूर कम मशीन का उपयोग को का निर्माण कार्य कराए जा रहे हैं ।एक ऐसा ही नजारा जनपद पंचायत जतारा की ग्राम पंचायत बाजीपुरा में देखने को मिला है ।जहां पर जनपद पंचायत के उपयंत्री की मिलीभगत से ग्राम पंचायत में जेसीबी मशीन से निर्माण कार्य कराया जा रहा है। इतना ही नहीं ग्राम पंचायत बाजीतपुर मैं जो निर्माण कार्य कराए जा रहे हैं वह सरपंच के द्वारा गांव के एक प्रभावशाली व्यक्ति को ठेके पर दिए गए हैं जिसका सोशल मीडिया पर बातचीत का सरपंच का एक ऑडियो भी वायरल हो रहा है जिसमें सरपंच के द्वारा स्पष्ट रूप से यह कहा जा रहा है। कि हमने गौशाला का निर्माण कार्य तेरा पर्सेंट कमीशन पर ठेके पर दिया है जिसमें सारी जवाबदारी संबंधित व्यक्ति की है ।
अधिकारियों का कमीशन और शिकवा शिकायतों को निपटाने का दायित्व भी उन्हीं महोदय का है जिनको ठेके पर काट दिया गया है यह बात ग्राम पंचायत का सरपंच ऑडियो में कह रहा है जो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।
ग्राम पंचायत बाजीतपुर में इस समय गौशाला निर्माण कार्य मनरेगा योजना से कच्ची सड़क मार्ग सड़क निर्माण कार्य नंदन फलोद्यान के लिए बगीचे का कार्य आदि ग्राम पंचायत में गांव के बाहर हनुमान मंदिर तलैया के पास चल रहा है। जिसमें मजदूरों की जगह जेसीबी मशीन से उक्त निर्माण कार्य चल रहे हैं सड़क निर्माण कार्य में जहां मजदूरों को रोजगार देने की बात कही जा रही है उक्त सड़क का निर्माण कार्य जेसीबी मशीन से कराया जा रहा है जिसमें धूल वाली मिट्टी डाली गई है जबकि उक्त सड़क पर ठोस मिट्टी होना चाहिए लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है ग्रामीणों ने अभी बताया कि मस्टर रोल में मजदूरों के नाम दर्ज है जबकि धरातल पर मजदूरों से निर्माण खाई नहीं कराया जा रहा है।
जिसमें ग्राम पंचायत के रोजगार सहायक सरपंच सचिव से लेकर सेक्टर के उपयंत्री के द्वारा मजदूरों के द्वारा निर्माण कार्य कराए जाने का भौतिक सत्यापन किया जाता है। जबकि काम मशीन से हो रहा है और मजदूर गांव से पलायन कर रही है उन को रोजगार भी नहीं मिल रहा है ।इतना ही नहीं जतारा जनपद पंचायत क्षेत्र की ग्राम पंचायतों में भी मशीनों से निर्माण कार्य हो रहे हैं ।
जबकि बीते सप्ताह ही जनपद पंचायत जतारा की एक बैठक के दौरान जिला पंचायत सीईओ स्वदेश कुमार मालवी ने
जनपद पंचायत जतारा में समीक्षा बैठक के दौरान कहा था कि जिले में किसी भी ग्राम पंचायत में जेसीबी मशीन से निर्माण कार्य नहीं होगा और अगर मशीन से निर्माण कार्य होगा तो संबंधित व्यक्तियों के खिलाफ ठोस कार्यवाही की जाएगी उनके दिशा निर्देशों के बाद भी ग्राम पंचायतों में जेसीबी मशीन से चल रहे हैं और मजदूर रोजगार के अभाव में पलायन कर रहे हैं जिससे साफ जाहिर होता है कि कहीं ना कहीं या तो वरिष्ठ अधिकारियों के दिशानिर्देशों को किया जा रहा है ग्रामीण अंचल अधिकारी कर्मचारी अधिकारियों के आदेशों को नहीं मानते हैं जो एक जांच का विषय है।

क्या कहते अधिकारी

जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी स्वदेश कुमार मालवी बताया कि मुझे इस मामले की अभी जानकारी मिली है हम इस मामले को दिखाने के लिए जनपद पंचायत सीईओ को निर्देशित करते हैं।

क्या कहते एसडीएम
इस संबंध में जतारा एसडीएम डॉ सौरभ सोनवणये ने बताया कि ग्राम पंचायत बाजीतपुर अगर जेसीबी मशीन से निर्माण कार्य चल रहे हैं तो मैं अभी मामले को दिखाता हूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *