बैंक की पेचेन्दी ने कर दिया शिक्षक के परिवार का हाल बेहाल

मनीष यादव पलेरा ,(टीकमगढ़) लॉक डाउन में एक शिक्षक का परिवार लगा रहा है शासन से गुहार शासकीय शिक्षक होने के बाद भी नहीं मिल रही है वेतन दो बैंकों की कानून पिचेंडीओ में फंसा शिक्षक का परिवार
परशुराम सौर पिता हज्जू सौर प्रधानाध्यापक निवासी लिधौरा टोरी ने बताया कि सन 2008 में मध्यांचल ग्रामीण बैंक शाखा पलेरा से दो लाख रुपए का पर्सनल लोन स्वीकृत कराया था जिसकी बैंक शाखा द्वारा पासबुक जारी की गई थी मेरे द्वारा हर माह 4608 रुपए की किस्त शाखा द्वारा निर्धारित की गई थी जो मेरे द्वारा 11 माह में 11 किस्त जमा की गई लेकिन शाखा द्वारा हेराफेरी करके 18/ 10/ 2019 को वसूली एवं सूचना नोटिस जारी किया गया जिसमें दो लाख ₹50000 रुपए स्वीकृत मूलधन बताया गया है लेकिन मेरे द्वारा ₹200000 का स्वीकृत ऋण ही लिया गया है वहीं दूसरी ओर मुख्यमंत्री ग्रामीण आवास योजना अंतर्गत मुझे ₹160000 का लोन स्वीकृत बताया गया जिसका वसूली का नोटिस भी मुझे दिया गया शिक्षक ने बताया है कि यह लोन मैंने बैंक से लिया ही नहीं है तो मुझे नोटिस किस बात का दे दिया गया है शिक्षक परिवार का कहना है कि शाखा द्वारा मेरे पति एवं मेरे परिवार को मानसिक एवं आर्थिक रूप से प्रताड़ित किया जा रहा है तो वही कागजों में हेराफेरी करने का आरोप शिक्षक द्वारा लगाया गया है इस लॉक डाउन के समय में मेरा परिवार दाने-दाने को मोहताज है ऐसे लाकडॉउन के समय में बैंक के द्वारा मेरे पति के खाते पर भारतीय स्टेट बैंक शाखा पलेरा ने होल्ड लगा दिया है जिससे मेरे परिवार भरण पोषण में काफी परेशानी आ रही है परिवार के कई सदस्य बीमारी से ग्रस्त हैं लेकिन इलाज नहीं हो पा रहा है पड़ोसियों से भोजन मांग कर गुजारा किया जा रहा है शिक्षक के परिवार ने शाखा प्रबंधक से पति के खाते पर होल्ड खोले जाने की मांग की है ………… जबकि नियमानुसार शिक्षक की वेतन से कुछ राशि प्रतिमाह काटकर के बैंक अपना पर्सनल लोन अदा कर सकती है लेकिन खाते को पूर्णता होल्ड

पर रखना कानूनन गलत है इनका कहना है:- परशुराम सौर प्रधानाध्यापक निवासी लिधौरा टोरी ने हमारी शाखा से ढाई लाख रुपए का सन 2008 में ऋण लिया था जो प्रधानाध्यापक द्वारा चुकता नहीं किया गया वसूली का मामला है इसलिए प्रधानाध्यापक को नोटिस दिया गया है भारतीय स्टेट बैंक शाखा को चिट्ठी लिखकर खाते पर होल्ड लगाया गया है और प्रधानाध्यापक को मुख्यमंत्री ग्रामीण आवास ऋण नहीं दिया गया है यह नोटिस गलत फर्जी है ———- हिमांशु द्विवेदी शाखा प्रबंधक मध्यांचल ग्रामीण बैंक पलेरा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *