Views: 1.54k

बुंदेलखंड का कर्मवीर योद्धा (पार्ट वन)

कोरोना में बुंदेलखंड का कर्म वीर योद्धा( पार्ट वन……)……… करोड़ों लोगों की आस्था एवं विश्वास के प्रतीक मर्यादा पुरुषोत्तम राम की तपोभूमि चित्रकूट मैं कोरोनावायरस लॉक डाउन के चलते तीर्थयात्री नहीं पहुंच रहे हैं ऐसे में भगवान कामतानाथ की परिक्रमा में लाखों बेजुबान बंदर हैं जिनके खाने की व्यवस्था युवा पत्रकार पंकज मिश्रा ने समाजसेवियों के सहयोग से प्रतिदिन कर रहे हैं पंकज मिश्रा पेशे से पत्रकार हैं खबरों के साथ साथ साथ अब वह इन बेजुबान बंदरों को जानवरों के लिए खबरों की तरह मेहनत कर रहे हैं उनकी भोजन की व्यवस्था हो या फिर पानी पीने की व्यवस्था इन सारी जिम्मेदारियों का निर्वहन पंकज मिश्रा पिछले 15 दिनों से कर रहे हैं जिन्होंने लोकल चित्रकूट और आसपास के समाजसेवियों से सहयोग लेकर के कामतानाथ भगवान की परिक्रमा और चित्रकूट में अन्य स्थानों पर जगह चिन्हित की गई है जहां पर वह प्रतिदिन इनको खाना और पानी दे रहे हैं पंकज मिश्रा कहते हैं पिछले 18 मार्च से चित्रकूट की सीमा को सील कर दिया गया था इसके साथ ही बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं पर पूर्णता प्रतिबंध लगा दिया गया है ऐसे में चित्रकूट में बंदर गायों और भिखारियों पर पेट भरने की नौबत आ गई थी मन ही मन में सवाल लगातार कौंध रहा था कि आखिर इनकी व्यवस्था कैसे की जाए तब हमने यहां के संतों और समाजसेवियों से बात की तो सभी के सहयोग से यह समस्या हल हुई और आज सभी के सहयोग से बंदरगाहों और भिखारियों के लिए प्रतिदिन मंदिरों के सहयोग से भोजन और पानी की व्यवस्था की जा रही है वह कहते हैं कि मेरा खबरों का वास्ता है लेकिन मन में एक पीड़ा थी कि इनका क्या होगा खबर बनाकर चला देने से इनकी समस्या का हल नहीं होगा इसलिए मैंने मन में ठाना बस इसी विचार को लेकर के हमने मन में ठाना और लोगों के सहयोग ने आज इस मुकाम पर ला दिया है कि प्रतिदिन दोनों टाइम इन सभी को भोजन पानी उपलब्ध हो रहा है मैं धन्यवाद देता हूं यहां कि साधु संत समाज को जिन्होंने इस पुण्य कार्य में भरपूर सहयोग कर रहे हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *