Views: 472

पिता की जान बचाने दो नाबालिग बहने कर रही हैं कटाई

नाजुक कंधो पर जिम्मेदारी का बड़ा बोझ और शासकीय योजनाओं की हकीकत
•••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••
{माँ की मौत के बाद पिता के इलाज के लिए मजदूरी कर रही है दो सगी बहने भीषण गर्मी में खेतो की कटाई कर रही है ताकि पिता का इलाज करा सके}
•••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••
छतरपुर जिले के नगर लवकुशनगर खेलने कूदने की उम्र में माँ का निधन दो सगी बहनों के लिए बज्रपात से कमी नही रहा आर्थिक स्थिति अच्छी न होने और गंभीर बीमारी से जूझ रहे पिता के इलाज के लिए इस भीषण गर्मी में भी यह दो सगी बहने खेतो पर पहुचकर मजदूरी एवज में फसलों की कटाई कर रही है यह मामला है गौरिहार जनपद क्षेत्र के पड़रिया का है मुन्नीलाल श्रीवास की यह दो बच्चियां सुबह से खेतों पर पहुचकर पूरे दिन फसलो की कटाई कर रही है शाम के बाद बीमार पिता की सेवा का जिम्मा भी इन्ही के कंधों में है पूनम 16 वर्ष मन्तो 10 वर्ष ने बताया उनकी माँ कल्लन श्रीवास का बीते माह अचानक निधन हो गया था जिससे उनके ऊपर ही परिवार संचालन की जिम्मेदारी आन पड़ी है यही वजह की उन्हें घर से बाहर निकलकर मेहनत मजदूरी करनी पड़ रही है एक बड़ा भाई लेकिन वह घर के जिम्मदारी में हाथ नही बाटता है हम दो बहनों के बाद एक छोटा भाई है उसके पालन की जिम्मेदारी भी अब उन्ही के कंधों पर है

एक माह बाद भी नही मिली अनुग्रह राशि
•••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••
मुन्नीलाल के परिवार के साथ इस बुरे वक्त में प्रशासनिक अमला भी साथ नही दे रहा है मुन्नीलाल ने बताया की उसकी पत्नी के निधन के एक माह बाद भी उसे अनुग्रह राशि नही मिली जबकि संभल योजना में उसका नाम दर्ज है मुन्नीलाल ने बताया की ग्राम पंचायत द्वारा उसकी पत्नी की उम्र 40 साल की जगह 60 साल कम्प्यूटर में दर्ज की गई है जिससे अब उसे अपात्र बता रहे है पत्नी के आधार कार्ड सहित अन्य रिकार्ड में उसके पत्नी की उम्र 40 साल ही दर्ज है
इनका कहना है
••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••
यह मामला मेरी जानकारी में नही था आपसे से मामले की जानकारी मिली है मैं इस मामले को दिखवाता हूँ हितग्राही यदि पात्र है तो उसे अनुग्रह राशि मिलेगी

केपी द्विवेदी जनपद सीईओ गौरिहार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *