पानी को तरसते लोग,मस्ती करते अधिकारी

चरण सिंह बुंदेला की रिपोर्ट बड़ागांव धसान (टीकमगढ़) नगर परिषद क्षेत्र में जलस्तर घटने से पीने के पानी की समस्या खड़ी हो गई है वार्डों में लोग पेयजल व्यवस्था के लिए लगातार भटकने पर मजबूर है इसी तरह वार्ड क्रमांक 4 जमुनिया खेरा रैकवार बस्ती में मार्च-अप्रैल जैसी भीषण तपती गर्मियों के मौसम लगते ही पीने के पानी का संकट छा जाता है नगर परिषद के वार्ड 4 में एक साल पहले 50 से 70 घरों के लिए नगर परिषद ने वार्ड पार्षद के कहने पर लाखों रुपए खर्च कर पेयजल व्यवस्था बनाने के लिए टीकमगढ़ सागर रोड किनारे वार्ड वासियों लोगों को पानी भरने के लिए जमीन पर साटा डालकर स्टैंड पोस्ट लगाई गई लेकिन वार्ड के लोगों की समस्या जैसे कि तैसी बनी हुई है दरअसल वार्ड के लोगों का कहना है जलस्रोत के लिए 30 साल पहले नगर परिषद द्वारा जमुनिया खेरा रैकवार बस्ती लोगों को पीने के पानी के लिए हैडपंप लगाने नलकूप का खनन कराया गया था एवं खनन के दौरान पानी निकलते ही नगर परिषद ने लोगों को पेयजल व्यवस्था बनाने के लिए उसी में हैडपंप लगा दिया था जिससे वार्ड बांसी रोजाना पानी का उपयोग आसानी से कर लेते थे लेकिन नगर परिषद के अधिकारियों की मिलीभगत के चलते वार्ड पार्षद के कहने पर जलस्रोत हुए हैडपंप में एक साल पहले नगर परिषद ने बोर मशीन डालकर वार्ड वासियों को पानी की व्यवस्था बनाने के लिए रोड किनारे स्टैंड पोस्ट लगवाने लाखों रुपए कीमत का साटा बिछाया गया लेकिन वार्ड वासियों को पीने के पानी के लिए बिजली का इंतजार करना पड़ता है अगर किसी कारणवश बिजली चली जाती है तो लोगों को कई घंटों तक पानी भरने के लिए बिजली आने का इंतजार करना पड़ता है लेकिन इसी तरह लोगों को दिन रात जागरण कर पानी के लिए कतार में मजबूरन खड़ा होना पड़ रहा है लेकिन बिजली गुल हो जाने पर एक एक बूंद बूंद पानी के लिए दूर-दूर तक पैदल चल कर कुआ एवं हैडपंप की तलाश में भटकना पड़ता है वहीं वाडों में लगे हैडपंप और कुएं पूरी तरह सूख गए हैं जिसके चलते लोगों को अपने वाडों से एक किलोमीटर दूर से पानी ढोना पड़ रहा है दरअसल नगर परिषद के 15 वाडों में नल जल योजना के के अंतर्गत नगर में नल जल सप्लाई एक हफ्ता में सिर्फ 2 से 3 दिन ही की जा रही है जिसके चलते ही नगर के लोगों को पानी सहेज कर रखना पड़ रहा है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *