निर्वाचन का कार्य निजी हाथों में

टीकमगढ़ जिला मुख्यालय की तहसील में निजी हाथों से हो रहा है निर्वाचन का कार्य पूर्व में काट दिए गए थे कांग्रेसी नेता के परिवार के सदस्यों के नाम जिला मुख्यालय की तहसील टीकमगढ़ में निर्वाचन शाखा का कार्य कोई शासकीय कर्मचारी नहीं बल्कि सेक्शन राइटर के हाथ में है पूर्व में कार्य कर रहे बाबू को निलंबित कर दिया गया है इसके बाद से वहां पर सेक्शन राइटर बशारत उल्ला बैग और भगवान दास कुशवाहा की ड्यूटी लगा दी गई है निजी हाथों में कार्य पहुंचने से निश्चय थी गड़बड़ियां होने की आशंका को प्रबल मिलता है जबकि नगरीय चुनाव को लेकर निर्वाचन का कार्य जोरों पर है ऐसे में उम्मीद की जा सकती है निजी हाथों से कार्य कराने से कहीं भी गड़बड़ी हो सकती है ………… रिटायर्ड तहसीलदार राजेश सिंह कहते हैं……… निर्वाचन जैसा महत्वपूर्ण कार्य सेक्शन राइटर या निजी हाथों से नहीं कराया जा सकता है इसमें तहसीलदार की जिम्मेदारी बनती है कि वह शासकीय कर्मचारी से ही निर्वाचन का महत्वपूर्ण कार्य कराएं ।सेक्शन राइटर भगवान दास कुशवाहा कहते हैं …………तहसीलदार साहब ने ड्यूटी लगाई है इसलिए मुझे कार्य करना पड़ रहा है……… विधानसभा चुनाव में पूर्व मंत्री यादवेंद्र सिंह बुंदेला के परिजनों के नाम मतदाता सूची से गायब कर दिए गए थे जिसको लेकर के प्रदेश की राजनीति में खूब बवाल मचा था इस तरह के लोगों से निर्वाचन में ड्यूटी कराने का कोई भी गड़बड़ी की आशंका से मना नहीं किया जा सकता है जिसका परिणाम हुआ था कि पिछले विधानसभा चुनाव में पूर्व मंत्री बुंदेला उनके परिजनों के नाम मतदाता सूची से गायब कर दिए थे जिसको लेकर के राज्य निर्वाचन आयोग को सफाई देनी पड़ी थी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *