मोंटी वर्मा की रिपोर्ट पृथ्वीपुर ……ओरछा के सेंचुरी में नियमों को ताक पर रखकर चल रही है सीरियल की शूटिंग रात में शूटिंग होने से जानवरों को है खतरा वन विभाग ने झाड़ा पल्ला सूत्रों की मानें तो सुबह 8 बजे से शाम 5:00 बजे तक की दी गई है परमिशन निवाड़ी जिले के टूरिस्ट प्लेस ओरछा के पास वन अभ्यारणमें सीरियल ……एक थी रानी एक था रावण ……की शूटिंग चल रही है जिस की परमिशन वन विभाग द्वारा सुबह 8 बजे से शाम 5:00 बजे की ली गई है लेकिन शूटिंग देर रात्रि तक जारी रहती है ……क्या कहते हैं पर्यावरण शास्त्री ……डॉ सुमित बनर्जी कहते हैं की फॉरेस्ट के किसी भी जोन में मानव की हलचल जानवरों पर गलत असर डाल सकती है क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने गाइडलाइन दी है की सेंचुरी एरिया के वफर जॉन में किसी भी तरह की शोरगुल और परमिशन देना गलत है वहीं टीकमगढ़ के डीएफओ चंद्रशेखर सिंह कहते हैं…… की परमिशन दी गई है लेकिन देर रात तक और शूटिंग नहीं कर सकते हैं अगर कर रहे हैं तो गलत है और नियम के विरुद्ध है उन्होंने गोलमाल जवाब देते हुए कहा 24 घंटे की परमिशन दी गई है कहते हैं शाम 9:00 बजे तक शूटिंग कर सकते हैं पर्यावरण और जंतु विज्ञान के जानकार इसे गलत मान रहे हैं लेकिन वन विभाग के अधिकारी स्वीकृति को सही ठहरा रहे हैं ऐसे में सवाल उठता है कि वह कौन सी वजह है जिसके चलते वन विभाग के अधिकारी जानवरों की सुरक्षा की जगह सीरियल वालों के पक्ष में खड़े दिखाई देते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here