Views: 205

किसान ने लगाया समिति प्रबंधक पर आरोप

किसान उपज लेकर पहुंचा खरीदी केंद्र समिति प्रबंधक ने बैरंग लौटाया किसान ने लगाया पैसे 5000 मांगने का आरोप
बाल किशन प्रजापति जतारा (टीकमगढ)
कोरोना काल में की जा रही गेहूं खरीदी मैं भी गड़बड़ी की तमाम शिकायतें आ रही हैं ऐसा ही एक मामला नई मंडी पलेरा मे बनाए गए खरीदी केंद्र कहां जहां कृषि साख सहकारी समिति टोरी के समिति प्रबंधक में किसान की उपज लेने से इनकार किया उपज खराब बताकर पैसे की मांग करने लगा पैसे दोगे तो सब चलेगा नहीं तो परेशान हो जाओगे किसान इतनी बड़ी रकम देने से मना किया तो प्रबंधक ने घर का रास्ता दिखा दिया
दरअसल गेहूं खरीदी में गड़बड़ी की शिकायतें आम है जहां खरीदी केंद्रों पर तमाम अनियमितताएं देखने को मिल रही है कहीं तोल के नाम पर पैसा मांगा जाता है तो कहीं उपज के नाम पर वही सांठगांठ का व्यापारियों का गेहूं किसानों की पंजीयन पर डाला जाता है
मामला 23 मई का है जब घूरा निवासी किसान अनंतराम पांडे अपनी उपज लेकर किराए के वाहन से कृषि साख सहकारी समिति टोरी के बनाए गए खरीदी केंद्र पलेरा में पहुंचे जहां उन्होंंने सहकारी समिति से संपर्क किया और अपनी उपज देने की बात कही इस पर समिति प्रबंधक ने गेहूं छानने की बात कही तो किसान ने कहा कि हमारा गेहूं छान के ले लो जो भी कचरा निकलेगा हम अपने घर ले जाएंगे किसान अनंतराम पांडे ने आरोप लगाते हुए बताया कि समिति प्रबंधक मुन्नालाल पटेरिया ने गेहूं में जवा होने के चलते ₹5000 की मांग की है उन्होंने बताया कि अगर ₹5000 दोगे तो सब चलेगा नहीं तो जहां जाना है वहां चले जाओ तुम्हारा गेहूं नहीं डाला जाएगा
किसान से इतनी रकम देने से इनकार कर दिया और अपनी फसल लेकर तहसील कार्यालय पहुंचे जहां तहसीलदार नहीं मिलने पर एसडीएम से फोन पर शिकायत की और फसल लेकर अपने घर आ गए
क्या है मामला
किसान अंतराम पांडे ने बताया कि समिति प्रबंधक मुन्नालाल पटेरिया मुझसे आप सी बुराई मानते हैं जिसके चलते हमारी फसल में बेवजह खराब बताकर परेशान किया गया है संबंधित अधिकारी चाहे तो हमारे घर आकर हमारी उपज देख सकते हैं उन्होंने बताया कि समिति प्रबंधक की मनमानी से किसान परेशान होते हैं हम उपज लेकर पहुंचे हम किराए के वाहन में ले गए थे हमें किराया भाड़ा भी लगा है ऊपर से परेशान भी किया गया है जिससे हम बहुत व्यथित श्वास दमा की मरीज किसान अपनी सहायता के लिए अपने 12 वर्षीय पुत्र को भी ले गए थे दिन भर धूप में खड़े रहे और वापस बैरंग घर लौट आए
हिस्सा लेकर नहीं दी रशीद
इसके अलावा उन्होंने बताया कि समिति प्रबंधक ने किसानों से हिस्सा के पैसे लेने के बाद भी आज तक रसीद नहीं दी है सैकड़ों किसान ऐसे हैं जिनको रसीद नहीं मिली है अगर इसकी जांच की जाए तो बड़ा घोटाला मिलेगा

फसल में छन्ना लगाया जो जवा निकला था गेहूं छानने के पैसे पल्लेदार लेते हैं या फिर गेहूं किसान स्वयं छान कर लाए हमने किसान से कोई पैसे की मांग नहीं की हैआरोप निराधार हैं
मुन्नालाल पटेरिया
समिति प्रबंधक कृषि साख सहकारी समिति टोरी

फोन पर शिकायत आई थी जिसकी जांच की जा रही है जांच के बाद ही संबंधित के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी
सौरभ सोनबणे
एसडीएम जतारा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *