एक्सक्लूसिव तीनों किसानों के ठग पहुंचे सलाखों के पीछे, दो हुए निलंबित, करोड़ों की संपत्ति कर ली अर्जित

एक्सक्लूसिव ……टीकमगढ़,नसीम अली की रिपोर्ट। किसानों के साथ ठगी करने वाले 3 शासकीय ठग गिरफ्तार लंबे समय से उड़द खरीदी में किसानों से कर रहे थे ठगी । जरा आप इन तीनो को गौर से पहचानिए यह किसानों के ठग जो शासन की नौकरी का चोला ओढ़ करके किसानों को ठगते थे और व्यापारियों को लाखों का फायदा पशुचाते थे लेकिन सत्ता परिवर्तन के बाद जब इनकी शिकायत कांग्रेस जिला अध्यक्ष और टीकमगढ़ कलेक्टर के पास पहुंची तो आनन-फानन में सहकारिता के डिप्टी रजिस्ट्रार कौशिक ने गौर में चल रहे खरीदी केंद्र पर छापा मारा और इन तीनों को किसानों से रुपए लेते हुए रंगे हाथों पकड़ लिया डीआर की रिपोर्ट पर इन तीनों ठगों पर पुलिस ने मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया है इन ठगों के नाम है अतुल मिश्रा लोकपाल सिंह राम प्रकाश दांगी लंबे समय से मोहनगढ़ क्षेत्र के उन गरीब किसानों को ठग रहे थे जो एक-एक दाना अपना इकट्ठाकरते हैं और उस पर शासन की वर्दी पहनकर डाका डाल देते थे लेकिन कहते हैं ना ठगी ज्यादा समय तक नहीं चलती है जब एक ईमानदार अधिकारी सामने आती है तो इनका हश्र यही होता है जो इनके साथ हुआ है यह तीनों पहुंच गए हैं सलाखों के पीछे ………कौन है यह तीनों ठग जरा इनको भी पहचान लीजिए…… ठग नंबर 1 ……लोकपाल सिंह इनका मूल पद सेल्समैन का है और मोहनगढ़ में सहायक समिति प्रबंधक के पद पर कार्यरत हैं इनकी वेतन लगभग 4000 के आसपास है लेकिन अगर हम संपत्ति की बात करें तो इनके पास संपत्ति लाखों में नहीं करोड़ों में हैं उत्तर प्रदेश के निवासी हैं लेकिन अपनी ससुराल को इतना प्यार कर बैठे कि उन्होंने मोहनगढ़ में अपना निवास बना लिया मकान है जमीन है लंबी चौड़ी जायादाद है चलने के लिए एक नहीं दो-दो फोर व्हीलर हैं अब आप सोचेंगे कि ₹4000 से7000 की नौकरी करने वाला इतना रुपया वाला कैसे बन गया तो गरीबों और किसानों को ठग कर । ठगनंबर 2………दूसरा ठग राम प्रकाश दांगी….इनका मूल पद सेल्समैन है लेकिन बंधा सहकारी समिति में सहायक समिति की प्रबंधक के पद पर कार्यरत हैं इनका भी वेतन लगभग 4000 के आसपास है लेकिन इनके पास संपत्ति करोड़ों की है आलीशान बंगला सैकड़ों बीघा जमीन के मालिक हैं ट्रैक्टर कार मोटरसाइकिल उनके पास है एक फोर व्हीलर से मन नहीं भरता है तो इनके पास दो-दो फोर व्हीलर भी है अब आप कहेंगे इनके पास इतनी संपत्ति कहां से आई तो स्वभाविक है कि उन्होंने पहले गरीबों को लूटा फिर किसानों को ठगा और बन गए करोड़पति इन दोनों को नौकरी करते हुए भी ज्यादा समय नहीं हुआ है 15 से 20 साल इन दोनों ठगों को सहकारिता में नौकरी करते हुए। ठग नंबर 3 ……ठगों के चाल में आकर के अतुल मिश्रा 3 महीने की नौकरी पर आया था और मोहरा बन गया इन दोनों ठगों का नोगावके रहने वाला है यह 3 माह की नौकरी के लिए गौर आया था लेकिन मोहनगढ़ के इन दो नामी ठगों ने उसे अपने जाल में फंस करके मोहरा बना दिया अब तीनों पहुंच चुके हैं सलाखों के पीछे। जेल जाते ही इन ठगों को जिला प्रशासन ने निलंबित भी कर दिया है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *