नसीम अली की रिपोर्ट टीकमगढ़- यूपी के प्रधान हत्याकांड का बेदपुर से क्या है कनेक्शन टीकमगढ़ जिले के पुलिस थाना बल्देवगढ़ के जंगल वेदपुर में मिली पूर्व प्रधान की कटी हुई लाश के संबंध में पड़ताल करती टीकमगढ़ समाचार की विशेष रिपोर्ट आखिरकार क्यों अपराधी टहरौली से प्रधान का अपहरण कर पहुंचे बेदपुर गांव? क्या है इस गांव का रहस्य ?अपराधियों की क्यों है शरण स्थली ?इसी पर पढ़िए विशेष रिपोर्ट;-गांव बेदपुर में उत्तर प्रदेश के पूर्व प्रधान की कटी हुई लाश को झांसी जनपद की टहरौली पुलिस और टीकमगढ़ जिले की बल्देवगढ़ पुलिस ने संयुक्त रूप से खुदाई करके7 अप्रैल को बरामद किया था सबसे बड़ा सवाल यह खड़ा होता है कि आरोपी प्रधान को लेकर के इस जंगल में क्यों पहुंचे क्या उनके लिए बेतवा नदी नहीं थी जहां लाश को काट कर के बहा सकते थे लेकिन बेदपुर के जंगल में क्यों आए क्या है इन अपराधियों का वेदपुर कनेक्शन इसी की खोजबीन की है टीकमगढ़ समाचार डॉट कॉम ने……अपराधियों का गढ़ है बेदपुर गांव …….टीकमगढ़ जिले के पुलिस थाना जतारा का बेदपुर गांव पिछले करीब दो दशक से अपराधियों का गढ़ है और यहाँ के अपराधियो के संबंध अंतरराज्यीय अपराधियों से हैं जिसका जीता जागता प्रमाण है उत्तर प्रदेश के प्रधान की कटी हुई लाश का जंगल से बरामद होना ग्रामीणों की माने बेदपुर गांव में करीब 5 साल पहले झांसी का ₹25000 का इनामी दादी और बिस्कुट को अवैध हथियार लिए पुलिस ने झांसी पुलिस ने इसी गांव से गिरफ्तार किया था यहां के लोगों की अगर हम बात करें तो करीब 4 नवयुवक है जो अपराधों को ताबड़तोड़ करते हैं और इनके साथ साथ देते हैं उत्तर प्रदेश के मोस्ट वांटेड अपराधी जंगली इलाका होने के कारण उत्तर प्रदेश के मोस्ट अपराधी आकर के यहां पर फेरारी काटते हैं और आसपास घटनाओं को अंजाम देते हैं गांव के ही एक युवक ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि गांव के अपराधी और बाहर से आए अपराधी मिलकर के किसानों की मोटरों की चोरी करते हैं जिसमें गांव धामना खैराई बैरपुर हरपुरा में करीब 50 से अधिक मोटर चोरी हो चुकी हैं …….फॉरेस्ट एरिया में एक कुआं है चंदन हार जहां अपराधियों को सुरक्षित रखा जाता है यहां पर यह लोग अवैध हथियार उत्पादन का भी काम करते हैं घुवारा से करीब 5 साल पहले अपहरण कर एक युवक को तालाब में गाड़ दिया था इसके बाद उसकी लाश को उखाड़कर के कुआं में डाल दी थी अपहरण करके लाए गए बच्चों ,यूबको को भी इस जंगल में रखा जाता है करीब 8 साल पहले दिगौड़ा में भी बैंक बम कांड में भी गांव के लोग इंवॉल्व थे लेकिन इनके खिलाफ आज तक कोई कार्यवाही नहीं हुई जिससे इनका मनोबल बढ़ता जा रहा है ग्रामीणों का आरोप है कि स्थानीय स्तर पर पुलिस इन पर कार्रवाई करने की बजाय संरक्षण देती है जिस कारण से उनके मनोबल आए दिन बढ़ते जा रहे हैं क्या कहते हैं जिम्मेदार अधिकारी………. टीकमगढ़ के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कहते हैं कि यह पूरा मामला उत्तर प्रदेश का है और यूपी पुलिस में कार्रवाई कर रही है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here