नसीम अली.. टीकमगढ़ से 15 दिन पूर्व अपरहत हुए मयंक खरे के मामले में आज पुलिस ने खुलासा कर दिया है पुलिस का कहना है की मयंक खरे की हत्या अवैध संबंधों के चलते की गई है और लाश को धसान नदी में फेंक दिया है जो पुलिस को अभी तक बरामद नहीं हुई है प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए छतरपुर रेंज के डीआईजी ने इस बात की पुष्टि की है लेकिन उन्होंने इस बात का खुलासा नहीं किया है कि मयंक खरे के अवैध संबंध आरोपियों के परिवार में किससे थे 25 सितंबर को घर से लापता हुए मयंक को आरोपियों ने पहले ढाबा पर ले जाकर के दारू पिलाई और खाना खिलाया इसके बाद गोली मारकर के उसी दिन हत्या कर दी और लाश को पलेरा के पास निकली धसान नदी में फेंक दिया………… दृश्यम मूवी की तर्ज पर आरोपियों ने दिया घटना को अंजाम। अब तक पुलिस के हाँथ नही लगा 25 सितम्बर को अपहरण किया गया मयंक नाम का युवक। मयंक के मोहल्ले के रहने बाले इशाक ने कबूला अपहरण कर हत्त्या करने का जुर्म। अवैध संबंध के चलते की गई थी हत्त्या। मयंक के दोस्त इशाक खान ने अपने चचरे भाई इकबाल के साथ मिलकर की थी मयंक की हत्त्या। गोली मारने के बाद गला घोंट कर की थी हत्त्या। शव को धसान नदी में फेंक कर किया था साक्षय छिपाने का प्रयास। धसान नदी में पानी का बहाब होने से शव का पुलिस को नही लगा अब तक सुराग। पुलिस ने दोनों आरोपियों पर 25-25 किया था इनाम घोषित। पुलिस ने दोनों मुख्य आरोपियों सहित 11 लोगों पर किया हत्त्या के इरादे से अपहरण करने और साच्य छुपाने का मामला दर्ज। हत्त्या में उपयोग किये गये 12 बोर की बंदूक सहित 7 जिंदा 3 खाली कारतूस किये जप्त। पुलिस ने सारे मामले का खुलासा कर दिया है लेकिन लापता हुए मयंक की लाश पुलिस को अभी तक नहीं मिली है ना ही पुलिस ने इस बात का खुलासा किया है कि अवैध संबंध किससे थे इस पूरे खुलासे के दौरान मुख्य आरोपी इसाक खान से जब पत्रकारों ने जानना चाहा वह बोलने को तैयार हुए लेकिन वह बोल नहीं सका देखें वीडियो

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here